तरस रही हूँ . . .

तरस रही हूँ . . . मोम की तरह पूरी रात दिल रोशनी से पिघलता रहा। पर वो इस हसीन रात को नहीं आये मेरे दिल में। मैं जलती रही और नीचे फिरसे जम...
Read More

प्रेम . . .

प्रेम . . . सीने से लगाकर तुमसे बस इतना ही कहना है। की जिंदगी भर तुम्हारी बाहों में प्रेम से रहना है।। मेरी साँसों में तुम बसे हो दिल ...
Read More

कुछ तो खुशी दो . . .

कुछ तो खुशी दो . . . दूर होकर भी तुम कितने मेरे दिल के करीब हो। तुम मेरे लिए एक दोस्त से कुछ ज्यादा मेरे लिए हो। तो क्या मेरी तमन्ना तुम...
Read More

संत कबीर कहे . . .

संत कबीर कहे . . . वाणी और व्यवहार का दिया कबीर ने ज्ञान। जगजग को संदेश दिया बोलो मीठे वचन तुम। जिस से टल जाते है बड़े बड़े रणभूमि के यु...
Read More

इस पोस्ट पर साझा करें

| Designed by Techie Desk