वफ़ा-ऐ-मुहोब्बत

दिल से निकली वो बात सुनने दो चुप रहो, खमोशी के राज़ खुलने दो खुद को दिखादो आज वफ़ा-ऐ-मुहोब्बत उल्फत के शोलो से आग जलने दो...
Read More

खुद को

मैने थोडासा किया तबाह खुद को आप समझने लगे जहाँपनाह खुद को पढ़े -  ज़ुस्तज़ु  ख्वाहिशे अपनी मकम्मल हुई तो ग़ुरूर से सोच ...
Read More

काबिलियत की नुमाईश

फिर उज़ागर हो गई हैवानियत की नुमाईश ठंडे बक्शे में रख दो इंसानियत की नुमाईश पढ़े -  तलाश में समंदर ख़ूनका और डूबके मरते हुए इंसान ह...
Read More

तलाश में

समंदर में उठी लहरे किनारो की तलाश में बिखरती रही यादे बहारों की तलाश में कभी तो मिलेगा एक आशियाना यहाँ सारा शहेर नि...
Read More

ज़ुस्तज़ु . . .

ज़ुस्तज़ु साथ निभाने की थी अपनो से ही तनहाई क्यों मिली शमा बुझी तो दिल जलाये थे बदले में बेवफाई क्यों मिली बुलंद सितारों को - Vahshu  - ख...
Read More

अधूरी ख्वाहिशें

अधूरी ख्वाहिशो को यूँ हवा नही देना अंगारे उठेंगे उसे नींद से जगा नही देना झील जो बर्फ से जमी थी खामोश है कागज़ की कश्त...
Read More

बुलंद सितारों को

बुलंद सितारों को एक दिन झुकना ही होगा । शाम की आग़ोश में सूरज को ढलना ही होगा ।। सूखे पत्तो को शाख पर नही भरोसा ।     छोड़ेगा दरख्त तो...
Read More

जिंदगी बना दो

गर्दिश में है तारे मुझे उठा दो गिर रहा हूं हाथ अपना बढा दो सब कुछ अगर है बिकाऊ सच्ची मुहोब्बत का मोल बता दो रिश्ते बहोत नाज़ुक होते है अ...
Read More

इस पोस्ट पर साझा करें

| Designed by Techie Desk