भारत देश महान . . .

भारत देश महान . . . मिलोगें तुम अगर देशके लोगों से  तो उनकी भावनाओं को समझोगे।  और देशके प्रति उनके भावों को तुम निश्चित ह...
Read More

हिन्दी मेरी माँ . . .

हिन्दी मेरी माँ . . . मैं हिन्दी का बेटा हूँ हिन्दी के लिए जीत हूँ।  हिन्दी में ही लिखता हूँ हिन्दी को ही पढ़ता हूँ।  मेरी हर एक सांस ...
Read More

क्या है मुंबई . . . जब सारा देश सोता है और सुकून की सांस लेता है। तब जगाती है मुंबई . . .

क्या है मुंबई . . . जब सारा देश सोता है और सुकून की सांस लेता है। तब जगाती है मुंबई और सबके अरमान पूरे करती है। तभी तो इसे भारत की ...
Read More

अनुभव से . . . आज के युग में हर कोई अपने बेटी बेटा को इंजीनियर वैज्ञानिक डाक्टर सी ए आदि . . .

अनुभव से . . . आज के युग में हर कोई अपने बेटी बेटा को इंजीनियर वैज्ञानिक डाक्टर सी ए आदि बनना चाहिते है। परंतु इसका ये मतलब ये नहीं...
Read More

धर्म आस्था और दंड, श्रृष्टि के निर्माता ने उसे बनाया ही कुछ ऐसा था. . .

धर्म आस्था और दंड . . . श्रृष्टि के निर्माता ने उसे बनाया ही कुछ ऐसा था। जिसमें सभी लोगों का समावेश होना था। ऊपर से चौरासी लाख देवी...
Read More

मोहब्बत का नया अंदाज, जब हम पास होते थे, तो दूर जाने को कहते थे . . .

मोहब्बत का नया अंदाज . . . जब हम पास होते थे तो दूर जाने को कहते थे। जब दिलकी धड़कनों को दिलसे सुनना होता था। तब कही और उलझना तुम्ह...
Read More

तरस रही हूँ . . .

तरस रही हूँ . . . मोम की तरह पूरी रात दिल रोशनी से पिघलता रहा। पर वो इस हसीन रात को नहीं आये मेरे दिल में। मैं जलती रही और नीचे फिरसे जम...
Read More

प्रेम . . .

प्रेम . . . सीने से लगाकर तुमसे बस इतना ही कहना है। की जिंदगी भर तुम्हारी बाहों में प्रेम से रहना है।। मेरी साँसों में तुम बसे हो दिल ...
Read More

कुछ तो खुशी दो . . .

कुछ तो खुशी दो . . . दूर होकर भी तुम कितने मेरे दिल के करीब हो। तुम मेरे लिए एक दोस्त से कुछ ज्यादा मेरे लिए हो। तो क्या मेरी तमन्ना तुम...
Read More

संत कबीर कहे . . .

संत कबीर कहे . . . वाणी और व्यवहार का दिया कबीर ने ज्ञान। जगजग को संदेश दिया बोलो मीठे वचन तुम। जिस से टल जाते है बड़े बड़े रणभूमि के यु...
Read More

एक आस . . .

एक आस . . . न खुशी की कोई लहर, हमे आगे दिखती है। जीवन और मृत्यु का डर, अब हमें नहीं लगता है। बस एक आस दिल में, सदा में रखता हूँ। अकाल ...
Read More

जन्म जन्म का साथ . . .

जन्म जन्म का साथ . . . जन्म जन्म का साथी है, हमारा तुम्हारा तुम्हारा हमारा। अब आगे भीदो मुझे अपना प्यार दुलार। जन्म जन्म का . . . ।। ज...
Read More

खुद जग गये . . .

खुद जग गये . . . हालातो ने इंसानो को क्या कुछ दिखा दिया। की लोग तड़पने लगे अपनो से मिलने के लिए। क्योंकि अब भरोसा नहीं है उसे खुद की जिं...
Read More

समय का खेल . . .

समय का खेल . . . न गम है अब मेरे साथ, न खुशी है अब मेरे साथ। जो भी थे मेरे साथ तब, जब में खिलता गुलाब था।। समय ने क्या से क्या,  हमें ...
Read More

संघर्ष . . .

संघर्ष . . . जिंदगी कितनी मिली ये कभी मत सोचो। जिंदगी में क्या कुछ तुम्हें मिला ये सोचो। जिंदगी मिली है तुम्हें कुछ करने के लिए। इसे त...
Read More

संगनी का साथ . . .

संगनी का साथ . . . मैं अब कैसे बतलाऊँ,  अपने बारे में लोगो। कैसे करूँ गुण गान,  अपने कामो का में। बहुत कुछ सीखने को,  मिला मुझे यहाँ पर।...
Read More

उलझनें . . .

उलझनें . . . यू जिंदगी की उलझनों में हम उलझते चले गये। न जीने की चाह है और न मरने का डर। यू जिंदगी की उलझनों में हम उलझते चले गये।। घर...
Read More

इस पोस्ट पर साझा करें

| Designed by Techie Desk